Tuesday, 1 September 2020

अनूप से ठी की एक कविता का कांङ्गड़ी में रूपान्तरण

 अनूप सेठी, मुम्बई की एक कविता जिसका - मैंने रूपान्तरण कांङ्गड़ी में किया है, 

प्रस्तुत है।

**

शब्द छू कर लौट जाते हैं

त्वचा का स्पर्श लिए

सिरहन रोमांच रत्ती भर नहीं

छुवन की अगन भर बालते हैं शब्द


"काङ्गड़ीया"  च अनुवाद:


सबद टोह्यी नै हटी जान्दे

चमड़ीय्या दा सपर्स लई नै

कम्बणी-रुआन्स रत्ती भर नी

छूअणा दीया अग्गू भर बाळदे

सबद।


**

आत्मा के कुंभ में गोता लगाने को उद्धत

अक्षर-अक्षर डूबते

सूखी लकड़ी-से तैर आते हैं


अनुवाद :


आत्मा दे कुम्भे च चुब्भी लाणे यो

तकोह्यो

अक्खर अक्खर डुबदे

सुक्के लकड़ुये सांह्यी तरी औन्दे ।

**

जिंदगानी के अपने हैं हाल बदलहाल

शब्दों की कुछ और ही है

बनी बनाई चाल


अनुवाद:


जिन्दड़ीया दे अपणे हाल हैन

बदहाल

सबदां दी होर ई है बणी-बणाई चालI

**

शब्द बिना कुछ कहे लौट जाते हैं


अनुवाद:


सबद बिना किनच्छ बोल्ले हटी जान्दे (पचांह् )

**

शोर मचाते हुए आते हैं

तूमार खूब बाँधा जाता है

साइकिल की पीठ पर बँधी सिल्ली जैसे

ठिकाने पर लगने से पहले ही गल. जाते हैं

अनुवादः


हल्ला पान्दे औन्दे

गप्पा दा गपाह्ड़ खरा 'क बह्न्यां जान्दा

साईकला दीया पिट्‌ठी प्राह्लैं

बद्धीयो सिल्ला सांह्यीं

ठकाणे लगणे ते पैह्लैं ई

गळी यान्दे ।

**


शब्द ही शब्द झंखाड़ धूल

धक्कड़ कितना असबाब

पेड़ भी शर्म से सिर झुकाए रहते हैं

अनु० :


सबद ई सबद झंखाड़ धूड़

धड़ैन्गा किन्ना असवाब

रूक्ख भी सरमा नै मुण्डे न्हीट्ठे पाई रखदे।

**

शब्द भुनभुनाते हैं उछल कूद मचाते हैं

अधबीच दम तोड़ जाते हैं

सोचते होंगे कागज

कोई किश्ती बना के ही

तैराता हवाई जहाज उड़ाता

चेहरे पर मली कालिख

छिपाते फिरते हैं कागज

अनु० :

 

सबद भुड़कदे कुद्द कुदैण पान्दे अद्ध गब्भीया दम तोड़ीSन्दे

सोचदे हुन्गे कागद

कोह्की किस्ती बणाई नै ई

तरान्दा ह्वाई झाज ई उड़ान्दा

अपणे थोबड़े पर मळीह्या काळखु

छुपान्दे फिरदे कागद।

**

जरा देर चुप रह के देखो

कितना कुछ कितना ज्यादा माँगते हैं शब्द.


अनु० :

 

जरा के दर चुप्प रह्यी नै दिक्‌खा

कितणा  किच्छ कितणा जैदा मंगदे सबदI


(ते कु सेठी )

Wednesday, 30 May 2018

ग़ज़ल

प्हाड़ी ग़ज़ल।

बगते पर

इक कोशिश।



***

ताज बगते दा कुसी  माफ नीं करदा कदी

जाळ लकीरां दा नी मत्थे ते उतरदा कदी ।

***

राम भटके बणैं-बण भर्त जेह्या राजा कदी

रावणैं गैं था क्या नी  सै:  नी मरदा कदी।

***

छाळ समुन्दरैं परैं  हड़्मान  भरदा कदी।

बगत ही ता था पाणीयैं टोह्ल तरदा कदी।

***

रोज रोज नि मरदा जीणे अपणे दे तिंयैं

खरा हुँदा  जे देस्से  तियैं  मरदा कदी।

***

हाख वगदी हटी नी  चोट रत्ती भर ही थी

हस्सी मळदा पीड़ा हिम्मत करदा कदी।

***

डा:डा हुंगा वगत तां  रैंह्दा रहो अपणे घरैं

डाँग बजगी ताँ बजणा दैं, मैं  नीं डरदा कदी।

***

सैंकड़े औतार ज्हाराँ संत  आये कवी

माह्णू  सुधरेया नि फिरी भी लुभदा कदी।

***

चोट बाह्यै ऐब्बी,  तोप्पै तिसते इ रमान

फट्टाँ बगते देयाँ जो बगत ही भरदा कदी।

***

चुकणे ही हन तां झोळी-चक्काँ जो चुक्क,

झोळी-चक दिक्खया नी कम्म करदा कदी।

***

लोक हटदे नीं सराह्न्दे  प्हाड़ां बर्फां देयाँ

जीभ सतरोन्दी प्हाड़ सैह्यी  खरदा कदी।

***

होऐ मूह्न्दा ता भी भरोह्या लगदा घड़ा

घुआड़ी नै बगते जो कुण दिखदा कदी।

***

तेज सेठी।

श्यामनगर, धर्मशाला। (हि o प्र o)

ग़ज़ल

ग़िज़ा दिल को अब तो रूहानी चाहिए।
तार अब रुह की रब से जुड़ानी चाहिए।
 ‎**
 ‎मतलव की बुनियाद पर टिके हुए हैं रिश्ते,
 ‎समझ लुट जाने पर तो आ जानी चाहिये।
 ‎**
 ‎काम की बात हो तभी करते हैं लोग बात،
बात उनकी बस अपनी बन जानी चाहिये।
 ‎**
 ‎उसने चिड़िया को पिला दिया क्या पानी,
 फ़ोटो अखबार में उसकी तो आनी चाहिए।
 ‎**
 ‎लोक तंत्र बन जाये लीक तंत्र बेशक़,
 ‎रकम लीकेज की मोटी जेब मेँ आनी चाहिए।
 ‎**
 ‎देखकर अबके लीडरों की हबस ए इख्तियार,
 ‎बिजली तो गिरनी कोई आसमानी चाहिए।
 ‎**
 ‎दिन भर चलती है हीरोइन की खरोंच की खबर,
 ‎किसी शहीद की भी तस्वीर  दिखानी चाहिए।
 ‎**
 ‎उग आए हैं खेतों में भी सिमेंटी मकान,
 ‎अब  बचे धान के खेतों को भी पानी चाहिए।
**
इक सैलाव फ़ेसबुक पे हकीमों का है आया हुआ,
तस्दीकी उनके लाइसेंसों की भी करानी चाहिए।
****

Tuesday, 31 January 2017

जान्नी जो जिस्म  भौंयें था  छळदा रेह्या फिरी
सुपना भी कोई हाक्खीं च पळदा रेह्या फिरी।
**
होया  मैं गच्च इतणा कि सुपने दी चाह्णिया
हाक्खीं घुआड़ने ते भी टळदा रेह्या फिरी।
**
सुआस्साँ दे खाते मुकणे दा नोटस मिली गेया
आस्सा दा दीया तां भी बळदा रेह्या फिरी।

सेक्के नि हड्ड-गोड्डे थे  धुप्पा मैं  चोंधिया
ध्याड़ा घरोया हत्थ ता मळदा रेह्या फिरी।
**
लग्गी नी अप्पूँ अग्ग एह किह्ल्ले इ ठेलुएँ
संगती च घैन्नेयाँ दिया  बळदा रेह्या फिरी।
**
लाया मैं अपणे अँगणे च बूटा सचाइया दा
फुल्लेया ता देरिया ते   फळदा रेह्या फिरी।
**
कित्ता था द्रोह मैं ही, मित्तर ता था साफ़ दिल
करना सै तिसदा  माफ़ भी  खळदा रेह्या फिरी।
**
छल्लियाँ दी रोटी सागे  नै प्रौह्णे इ झप्फी गै
मिंजो तियें ता खाणे जो प्ह्ळदा रेह्या फिरी
**
मिह्णती दा मैल भरेया मैं सबराँ दे गत्तां विच्च
सज्जणा दी सेजळु कनैं गळदा रेह्या फिरी।
**
अद्धी ता दुनियादारी सम्हाळी लई  चूह्याँ
लिक्खी पढ़ी सैह बिल्लियाँ जो सळदा रेह्या फिरी।
 **
विचळेरी छड्डेया माह्णु , इन्हां टोपियाँ जनाब
डरदा जे बूट बिठरेया  दळदा रेह्या फिरी।
**
मुद्दे दा हल निं चाह्यी दा मुद्दा ही चाह्यी दा
चुक्केया जे मीडियें सै’ उछळदा रेह्या फिरी।
 **
द्वेस्से दे खड़पैं डस्सेया बैद्दे ड्याणी जंघ?
डळ्याह सैह् इ ठाकर डह्ळदा रेह्या फिरी
**
दुध पाणिये दा मेळ ता ढिडे ते दोस्ती
पा भर था जित्थु सेर भी रळदा रेह्या फिरी
**
हाक्खीं च रात कड्ढी तेरीया निहाळपा च
दिन  जुग लग्गा मैं हाक्खीं जो मळदा रेह्या फिरी।
**
अप्पी तपी  ध्याड़ें ऐ दुनिया जो दित्ता जीण
रोई नि हाक्ख कोई जे ढळदा रेह्या फिरी।
**

Wednesday, 4 January 2017

blog dhauladhar: ग़ज़ल

blog dhauladhar: 



बसोंदे ता असां पल भर कुथी जे रुख हरा मिलदा।

असां भी जीण जी लैंदे, जे साथी इक खरा मिलदा।

**

रिह्या मितरो बची मैं तां, जे नाइये गैं था इक्क  कैंचु।

करी छडदा सै टिन्ड मेरी , जे तीह्जो उस्तरा मिलदा।

**

बड़े मद्धरे नि चा:ह्यीदे ए भत्त जिन्दू दा खाणे जो

नपी दिन्दा छड़ोह्ली मैं जे   खट्टा चरभरा मिलदा।

**

नि मिली बे:ह्ल ही मुंज्जो दुखां गिणने ते ही मितरो।

रिह्या सुख भ्याख्दा मैं भी  कदी तिसने जरा मिलदा।

**

मैं गुत्थदा झग्गुये तां:ह् ते,   छकोंदा होर भी तुआंह् ते

गयी बीत्ति एह जिंद सोच्चैं,  कोई झग्गू  खरा मिलदा।

**

मत उडदे पंछिया पर बाह बँदूकां रैह्म कर  किछ ता

तू दिख खोहड़ी ने हिक्का मेरिया  इक इक छरा मिलदा।

**

मैं हथ लाह्या दा दस कुस खोतिया, बनोह्ये एह  मेरे गोड्डे।

मैं पुछदा तिज्जो पकड़ी   जे मेरे  परमेसरा मिलदा।

**

नि दित्ता  दोस्त मैँ जाणा, बुराईयां दे चभच्चे विच्च।

रुस्सी बैठेया हण दस्सा, खरा कर्देयाँ बुरा मिलदा।

**

इह्नां लतरोंदींयाँ जीभां दी मुंज्जो पै:ह्ले ते सू:ह् थी।

छड्डीन्दे  गाईं  खुहलियाँ सैह जे खेत्तर हरभरा मिलदा।

**

चुक्की भरेया घड़ा मूँ:ह्डें,  चल्ली लैणा मैं सौ कोह भी।

पट्टोंन्दी इक्क भी गैं नि जे घड़ा अद्धभरा मिलदा।

**

कुर्सिया आळे-दुआळे घिरयो तळीयां चट्टणे आळे।

इन्हां छछूंदरां  पुच्छा तिन्हां कुण मुरमुरा मिलदा।

**

अज आया फोन अचानक ही मिंजो   दूरे दें साखां ते।

"करा दी रूह मिलणे यो तेरैं मधरा खरा मिलदा"।



**

ग़ज़ल

बसोंदे ता असां पल भर कुथी जे रुख हरा मिलदा।
असां भी जीण जी लैंदे, जे साथी इक खरा मिलदा।
**
रिह्या मितरो बची मैं तां, जे नाइये गैं था इक्क  कैंचु।
करी छडदा सै टिन्ड मेरी , जे तीह्जो उस्तरा मिलदा।
**
बड़े मद्धरे नि चा:ह्यीदे ए भत्त जिन्दू दा खाणे जो
नपी दिन्दा छड़ोह्ली मैं जे   खट्टा चरभरा मिलदा।
**
नि मिली बे:ह्ल ही मुंज्जो दुखां गिणने ते ही मितरो।
रिह्या सुख भ्याख्दा मैं भी  कदी तिसने जरा मिलदा।
**
मैं गुत्थदा झग्गुये तां:ह् ते,   छकोंदा होर भी तुआंह् ते
गयी बीत्ति एह जिंद सोच्चैं,  कोई झग्गू  खरा मिलदा।
**
मत उडदे पंछिया पर बाह बँदूकां रैह्म कर  किछ ता
तू दिख खोहड़ी ने हिक्का मेरिया  इक इक छरा मिलदा।
**
मैं हथ लाह्या दा दस कुस खोतिया, बनोह्ये एह  मेरे गोड्डे।
मैं पुछदा तिज्जो पकड़ी   जे मेरे  परमेसरा मिलदा।
**
नि दित्ता  दोस्त मैँ जाणा, बुराईयां दे चभच्चे विच्च।
रुस्सी बैठेया हण दस्सा, खरा कर्देयाँ बुरा मिलदा।
**
इह्नां लतरोंदींयाँ जीभां दी मुंज्जो पै:ह्ले ते सू:ह् थी।
छड्डीन्दे  गाईं  खुहलियाँ सैह जे खेत्तर हरभरा मिलदा।
**
चुक्की भरेया घड़ा मूँ:ह्डें,  चल्ली लैणा मैं सौ कोह भी।
पट्टोंन्दी इक्क भी गैं नि जे घड़ा अद्धभरा मिलदा।
**
कुर्सिया आळे-दुआळे घिरयो तळीयां चट्टणे आळे।
इन्हां छछूंदरां  पुच्छा तिन्हां कुण मुरमुरा मिलदा।
**
अज आया फोन अचानक ही मिंजो   दूरे दें साखां ते।
"करा दी रूह मिलणे यो तेरैं मधरा खरा मिलदा"।
🙏
**

Tuesday, 20 December 2016

खोळ खिड़किया

सोमवारे 19 दिसंबर 2016 दीया पञ्चीया तांईं प्री:ह्या:-
***
उठ भाऊ खोळ जरा  मने दिया दुआरिया।
नी ता तेरी बीत्तणी  गुमाने दी   खुमारिया।
**
मत खोहडे दूयाँ देयाँ,  दोसां दी पटारिया।
गास्सा 'खा ते दिक्खा कदा, लेखां दा लखारिया।
**
 मा:ह्णु होई मा:हणुयें सींएं मा:हणु कुति बणेया।
 मळदा रिंहां हत्थां  पंछि   पौणा जे उड़ारीया।
**
चिड़ियां जो रक्खेयो थे दाणे मैं सम्हाळी नै।
चिड़ीयां  डराई सारे      खाईं लै घुटारिया ।
**
कमाये थे मैं चार पैसे    दो गयै उधारिया।
बचे जेे दो बाकी सै ता    लगी  यै  बमारिया।
**
नौ झार करोड़ माल्या, क:ह्ला ई डकारिया।
पुट्टी क्या लेया गौरमिंटा, बैंक मन मारिया।
**
दुह्यी लै तू दुद्ध जिन्ना  दूह्यी  हुँदा  तेरे तैं।
हड्डों ख़ुडों बैहंगी तां तू फेरेयाँ कटारिया।
**
नाँ:ह्-किरसां दी ता कमाई होणी गिणुआं
बोरियां ता नोटां दियां  चोरिया चकारिया।
**
बद्दळ ता मते आये म्मीदां आळे पाणिये दे
 सुकिया ही छड्ढी गै सै मेरिया क्यारिया।
**
पहाड़िया ता छड़ी बैहन्दा सुरगे दे झूटेयाँ
दिक्खी करी साग-घियो, रोटिया करारिया।

**
पेटे जो घुआड़ी गया जिंदा मिन्जो छडी करी
ग्रैह-खा:दा दस्सी बैठा, डॉक्टरे नै बमारिया।

गुआळिया ही लगेओ न पार्टिया च होर सब
धन्न-भाग इक्को ही है, गाईं दा बपारिया।
**